एमबीबीएस व बीडीएस में प्रवेश के लिए दस्तावेजों का सत्यापन शुरू

    119
    Document Verification

    एमबीबीएस/बीडीएस : एमबीबीएस व बीडीएस में प्रवेश के लिए आयोजित नीट यूजी काउंसलिंग-2019 के पहले चरण में बुधवार से मेडिकल कॉलेज स्थित सेंटर में शैक्षिक दस्तावेज के सत्यापन का काम शुरू हो गया। पहले दिन 240 अभ्यर्थी अपने अभिभावकों के साथ पहुंचे। देर रात तक सत्यापन का काम चला।

    बिजली न होने से एसी प्लांट बंद रहने से उमस भरी गर्मी से अभ्यर्थी व अभिभावक बेहाल रहे। सरकारी व निजी एमबीबीएस व बीडीएस सीटों में प्रवेश के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कराने वाले छात्र छात्राओं के दस्तावेजों का सत्यापन शुरू हो गया है। शनिवार तक सत्यापन का काम चलेगा।

    पहले दिन स्टेट रैंक 1 से 4000 तक के अभ्यर्थी बुलाये गये थे। उन्होंने जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज सेंटर को चुना था। इसमें 240 अभ्यर्थियों ने शाम 6 बजे तक कॉलेज परिसर के न्यू लैब ब्लॉक में स्टेट रैंक के हिसाब से शैक्षिक दस्तावेजों की फाइल तैयार करायी। इसके बाद दस्तावेजों का ऑनलाइन सत्यापन कराया। देर रात तक सत्यापन कार्य चला।

    बिजली न होने से जनरेटर चले : मंगलवार को बारिश होने पर शाम 4 बजे गुल हुई बिजली बुधवार देर शाम तक नहीं आयी थी। ऐसे में दिनभर जनरेटर चले। वहीं बिजली न होने से एसी प्लांट नहीं चले। इससे अभ्यर्थी उमस से बेहाल रहे। उनके अभिभावक भी परिसर में गर्मी से परेशान होकर भटकते रहे।

    गुरुवार को स्टेट रैंक 4000 से 9000 तक के अभ्यर्थियों के दस्तावेजों का सत्यापन होगा। अभ्यर्थियों को राजकीय मेडिकल कॉलेज में प्रवेश के लिए तीस हजार रुपये का ड्राफ्ट (सिक्योरिटी मनी) लाना है। निजी मेडिकल कॉलेज के लिए दो लाख रुपये व डेंटल कॉलेज के लिए एक लाख रुपये का ड्राफ्ट लाना है। सत्यापन के दौरान ड्राफ्ट जमा करना होगा, जो महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा एवं प्रशिक्षण उप्र के नाम देय होगा।