नौकरी चले जाने से अतिथि शिक्षकों की रोजी-रोटी पर आया संकट

    322
    नौकरी चले जाने से अतिथि शिक्षकों की रोजी-रोटी पर आया संकट

    रायसेन | रायसेन जिले के सभी सरकारी स्कूलों में शिक्षकों के रिक्त पदों को भरने के लिए अतिथि शिक्षकों की भर्ती ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से हो रही है | ऑनलाइन प्रक्रिया के कारण पुराने अतिथि शिक्षक 70% से लेकर 80% तक स्कूलों से बाहर हो गए हैं |

    शिक्षा विभाग के द्वारा अतिथि शिक्षकों की भर्ती के लिए आदेश जारी किए गए थे कि सभी स्कूलों में अतिथि शिक्षकों की भर्ती ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से ही करवाई जाए लेकिन जिले में 70 फ़ीसदी से लेकर 80 फीसदी तक अतिथि शिक्षक स्कूलों से बाहर हो गए हैं |

    अतिथि शिक्षकों ने बताया है कि वह 10 साल से स्कूल में पढ़ा रहे थे जिसकी वजह से घर का खर्चा चल रहा था लेकिन शिक्षा विभाग ने अतिथि शिक्षक को हटा दिया है जिसके कारण घर की रोजी रोटी पर भी संकट आने लगा है | 

    अतिथि शिक्षकों की भर्ती के लिए ऑनलाइन तरीके से चयन करवाने के लिए मेरिट सूची तैयार की गई थी जिसमें उम्मीदवारों के ज्यादा नंबर होने की वजह से पहले उनका चयन हो गया और पुराने अतिथि शिक्षकों को हटा दिया गया | सभी अतिथि शिक्षक नौकरी चले जाने के कारण मायूस होते हुए दिखे | अतिथि शिक्षक एकत्रित होकर कोर्ट जाने की तैयारी में लगे हुए हैं शायद कोर्ट की शरण में जाने से कोई बदलाव हो सके |

    शनिवार के दिन ऑनलाइन भर्ती प्रक्रिया के माध्यम से अतिथि शिक्षकों की च्वाइस फिलिंग की मेरिट सूची भी जारी हो गई है जिसमें उम्मीदवारों का चयन हुआ है | इन उम्मीदवारों को सोमवार के दिन स्कूलों में पहुंचकर अपना स्वीकृति पत्र जमा करना आवश्यक है |

    चयन हुए उम्मीदवारों को स्वीकृति पत्र जमा करने के लिए शिक्षा विभाग से 1 दिन का समय दिया गया है जिसमें कुछ अतिथि शिक्षक अपना स्वीकृति पत्र जमा नहीं करा पाए | अतिथि शिक्षकों ने बताया कि च्वाइस फिलिंग में मिले स्कूल दूर होने की वजह से और दूसरी तहसील में होने की वजह से भी 1 दिन में स्वीकृति पत्र जमा नहीं हो सके |

    1 दिन का समय होने की वजह से अतिथि शिक्षक एक ही स्कूल में अपना स्वीकृति पत्र जमा कर पाए दूसरे स्कूलों में जाने के लिए समय नहीं था जिसकी वजह से और स्कूलों में उम्मीदवार अपना स्वीकृत पत्र नहीं जमा कर सके |