हाईकोर्ट ने सरकार से मांगा जवाब : क्यों नहीं उसी कक्षा में पढ़ सकते दो बार फेल होने वाले छात्र

    113
    हाईकोर्ट ने सरकार से मांगा जवाब : क्यों नहीं उसी कक्षा में पढ़ सकते दो बार फेल होने वाले छात्र

    नई दिल्ली। दो बार नौवीं में फेल होने वाले छात्र शिवम को हाईकोर्ट से राहत मिल गई। कोर्ट ने अंतरिम आदेश जारी कर दिल्ली सरकार व अलीगंज (लोधी कॉलोनी) के सवरेदय बाल विद्यालय को निर्देश दिया कि वह छात्र को नौवीं कक्षा में पढ़ने दे और फिलहाल उसका नामांकन कर ले। न्यायमूर्ति सी. हरिशंकर ने दो बार फेल होने वाले छात्र को उसी कक्षा में फिर से नामांकन न करने के सरकार के 27 अगस्त, 2018 के सकरुलर पर उससे जवाब भी मांगा है और सुनवाई 26 अगस्त के लिए स्थगित कर दी है।

    दो बार फेल होने के कारण तीसरी बार उसी कक्षा में नामांकन न करने के सरकारी सकरुलर को छात्र ने अपने अधिवक्ता अशोक अग्रवाल के माध्यम से हाईकोर्ट में चुनौती दी है। उन्होंने कहा है कि छात्र अलीगंज (लोधी कॉलोनी) के सवरेदय बाल विद्यालय में पढ़ता था और बीमारी की वजह से पहली बार नौवीं में फेल हो गया। उसने फिर से नाम लिखाया, लेकिन उस बीमारी से वह उबर नहीं पाया और फिर से फेल हो गया।

    अब वह तीसरी बार नौवीं में नाम लिखाना चाहता है, लेकिन स्कूल वाले सरकार के सकरुलर का हवाला देकर उसका नाम नौवीं में नहीं लिख रहा है। जबकि वह अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहता है। उसने अपने नामांकन को लेकर सरकार के पास प्रतिवेदन भी दिया। सरकार ने अभी तक उसपर कोई जवाब नहीं दिया है। कोर्ट सरकार को निर्देश दे कि स्कूल वाले उसका नाम नौवीं कक्षा में लिख ले।